बढे दोषो की सफाई का बेहतरीन उपाय उपवास

बढे दोषो की सफाई का बेहतरीन उपाय उपवास  चिकित्सा/ Importance Of Fasting Author: Dr.Milind KumavatM.D.Ayurveda उपवास चिकित्सा रोगो को नष्ट करके स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने के उपाय को चिकित्सा कहा जाता है वर्तमान  में रोग निवारण के लिए अनेक चिकित्सा  पद्धतिया प्रचलित है । सभी  पद्धतियों के अपने सिद्धान्त है और सभी चिकित्सा पद्धतियों के विद्वान मानते है की उनकी पद्धति रोगो का नाश करने में पूरी तरह से सक्षम है ।  उपवास महत्व  चिकित्सा की कुछ  विधियों में इलाज औषधीयो से किया जाता है जब कई वैकल्पिक चिकित्सा विधियों में बिना दवा के इलाज होता है । आहार चिकित्सा में रोगानुसार आहार का सेवन कराया जाता है जबकी उपवास चिकित्सा में निराहार रहकर रोग निवारण होता है ।चिकित्सा विशेषज्ञ भी इस तथ्य को मानते है कि लोग भूख से नहीं बल्कि ज्यादा खाने से बिमार होकर मरते है । यूं तो आहार  जीवन का आधार है , इसी से शरीर के स्वस्थ रहने एवं पुष्टता प्राप्त करने के लिए आवश्यक तत्त्वो की प्राप्ति होती है लेकिन यह तभी सम्भव है जब युक्तिपूर्वक आहार सेवन किया जाये ।  लेकिन जब आहार का सेवन स्वाद  के वशीभूत या केवल पेट भरने के लिए किया जाये तब स्वास्थ्यरक्षक आहार रोगकारक भी बन सकता है । इस बात को न केवल मनुष्य बल्कि जीव – जन्तु भी आदिकाल से जानते आये है ,इसलिए भोजन की गडबडी से पेट खराब होने या अन्यान्य रोग पनपने पर रोग निवारण के जिस सबसे आसान उपाय को अपनाते चले आ रहे है , वह है ,उपवास चिकित्सा ।  प्राकृतिक  चिकित्सकों का मानना है कि उपवास चिकित्सा से ऐसे वे जटिल रोग भी आसानी  से मिट जाते है जिनका इलाज अन्य पद्धतीयों में प्रायः सम्भव नहीं हो पाता । आयुर्वेद के अन्तर्गत विभिन्न रोगो में औषधि प्रयोग के साथ – साथ लंघन कराना सीधे तौर पर उपवास चिकित्सा है । वैसे हर स्वस्थ व्यक्ति को भी माह के कुछ दिन उपवास हेतु निश्चित कर लेने चाहिए , इससे पाचन तंत्र को भी कुछ आराम मिल जाने  से वह आगे कार्य करने के लिए अधिक सक्षम बनता है । प्रायः हर धर्म में उपवास के महत्त्व को स्वीकारा गया है । … Continue reading बढे दोषो की सफाई का बेहतरीन उपाय उपवास